शब्द चित्र / जंगल – मंगल.

किस बात पर झगड़ा हुआ ये कोई नहीं जानता पर कल जंगल में एक अजगर घड़ियाल से भीड़ गया ! एक घंटे तक घमासान हुआ, दोनों में खूब गुत्थम – गुत्थी हुई और अंत में अजगर घड़ियाल को मार के निगल गया ! इस बात से जंगल में सनसनी फ़ैल गयी है … ! जिन्होंने ये घटना देखी उनकी आँखें फटी रह गयीं ! वो जंगल का नया इतिहास देख रहे थे ! कल तक जो घड़ियाल सबका पेट चीरता था आज मरा हुआ अजगर के पेट में पड़ा था ! घड़ियाल को निगलने के बाद अजगर का पेट घड़ियाल के आकार का हो गया था ! घड़ियाल की मोटी लम्बी कंटीली पूँछ, दांतों से भरा जबड़ा, खुरदुरे पैर सब शिथिल थे मानो उसने अजगर का पेट ओढ़ लिया हो ! जितना पचा नहीं सकता उससे ज्यादा अजगर ने खा लिया था और निढाल पड़ा था ! जंगल मुर्दा शान्ति से भर गया था ! सब जानते हैं कि जंगल में कोई नियम नहीं चलता और जंगल का यही नियम है … जंगल की लड़ाई में चाहे जो जीते, जीत जंगल की ही होती है !

About Sanjay Jha Mastan

Writer Director
Tagged , , , , , , . Bookmark the permalink.

One Response to शब्द चित्र / जंगल – मंगल.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>