शिर्डी डायरी

शिर्डी का रास्ता सहृदय दोस्तों की संगत से भी गुजरता है …

*

बाग़ का एक – एक पौधा माली का बच्चा होता है ! सबका ‘माली’ एक है !

*

मस्जिद माई की आग हर अन्धकार को भस्म कर देती है ! फ़क़ीर की धुनी की धूम है …

*

माली के हाथ ! मिटटी से लिपटी हाथों की उँगलियों में न जाने कितने पौधों के प्राण बसते हैं ! पोर पोर में खुशबु ! कभी बीज कभी जड़ कभी सूखी मिटटी कभी पानी कभी कोई पत्ता कभी कोई काँटा कभी कोई कोंपल कोई पल्लव … हमेशा जीवन ! वो फ़क़ीर भी है ! मुठ्ठी भर राख के लिए अपने पास बुलाता है ! उसके खुरदुरे हाथ और आँखों की चमक ले के चलती है दुनिया की रौशनी और सब राह … बस एक बार वो हाथ चूमने मिल जाए … क्या पता आज ? उसने बुलाया तो है …

*

वे हमसे दूर जा ही नहीं सकते … मस्जिद से निकल के फूलों की क्यारियों में या बस लेंडी बाग़ … या बच्चों के साथ किसी पेड़ के नीचे या मेघा से बात करते हुए बस यहीं कहीं आस पास …! बाबा सदा हमारे साथ !

*

सुंदर बाग़ के माली से मिलने जा रहा हूँ ! मुझे वो अपनी सब क्यारियाँ दिखायेगा और हम किसी पेड़ के नीचे बैठ कर बारिश में पौधों को भीगते हुए देखेंगे ! इस मौसम के फूलों के बारे में भी बात होगी !
क्या पता वो सुंदर फूलों का कुछ बीज दे दे या गीली मिट्टी से लिपटा हुआ कोई नन्हा सा पौधा ! उसके लिए क्या ले जाऊं ? वो सबका मालिक है …

‘अल्लाह मालिक’ – साईं बाबा

About Sanjay Jha Mastan

Writer Director
Tagged , , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>