महानगर में खिंचा – खींची / महालोक – २२

आँख से तो कोई कुछ देखना ही नहीं चाहता सबको मोबाइल कैमरे में सब खींच के किसी और को दिखाना है ! जिसके लिए ये सब किया जाता है वो भी मोबाइल कैमरे में सब कुछ किसी तीसरे के लिए खींच रहा है ! फोटो की खिंचा – खींची में दृश्य की असली तस्वीर मन की आँख से ली ही नहीं जाती … हम देखते ही रह जाते हैं … 

मेरे ख्याल से

हर नए ख्याल में डगमगाती हुई एक अस्वीकृति होती है जिससे लड़ के सबसे पहले उसको जीतना पड़ता है ! हर नया ख्याल सुनाने पर किसी को सुनायी नहीं देता इसीलिए उसे जोर से बोलना पड़ता है ! हर नए ख्याल का एक हमशक्ल ख्याल होता है जिससे मिल कर उसे झुठलाना पड़ता है ! हर नया ख्याल तब तक सिर्फ एक ख्याल होता है जब तक हम उस पर भरोसा नहीं कर लेते ! ख्याल के खो जाने का डर सबसे व्यस्त ख्याल है ! ख्याल कभी अकेले नहीं रह पाते इसीलिए हम उनके साथ रहते हैं ! ख्याल बहुत जल्द बदलते हैं इसीलिए हम उन्हें बाँटते रहते हैं …

– मेरे ख्याल से

महानगर में अभिनेत्री की तलाश / महालोक – २१

पात्र परिचय – अभिनेत्री

चवन्नी सी बदकिस्मत अठन्नी सी बेकार और रुपये सी मुफ्त वो अठारह साल में ही पच्चीस साल सी दिखने वाली लड़की जो महानगर की बदनाम गलियों में ला के छोड़ दी गयी है , जो रंडी बुलाने पर किसी भी मर्द की आँखों में देख के मादरचोद कह सकती है…उसे Bold and beautiful कहना ही काफी नहीं होगा ! मर्द को छठी का दूध याद दिलाने वाली हेठी, अपने आप को साबित करने वाली ज़िद, और मांसल बदन ही उसका परिचय नहीं है ! नमक इतना की किसी को भी आँखों से ही पिघला दे ! निर्वस्त्र किये जाने पर कृष्ण को नहीं बुलाती पर निर्वस्त्र करने वाले के दंभ को खुद ठंडा कर के वापस भेज देती है !

एक महानगरीय लोककथा में ऐसी चरित्र को खेलने के लिए एक अभिनेत्री चाहिए ! बोलने के लिए ताक़तवर शब्द मिलेंगे और करने के लिए मर्मस्पर्शी दृश्य ! महानगरीय भाषा पर पकड़ होना अनिवार्य ! लोककथा की शूटिंग अगले महीने से महानगर में ही होगी ! आपकी काबिलियत और दिलचस्पी पर Audition होगा ! अपनी तस्वीर और इस चरित्र को करने की ख्वाहिश के साथ एक पत्र मेल करें ! ऐसी किसी talented actor के जानकार, model – coordinators , और मददगार मित्र से सहयोग अपेक्षित है !

 

 

#फोटोचापलूसी

- फोटो चापलूस से फोटोग्राफर दुखी रहते हैं !

– ‘फोटो चापलूसी’ में फोटो देखा नहीं जाता सिर्फ लाइक किया जाता है ! 

– ‘फोटो चापलूसी’ Facebook का गहना है !

– फोटो चापलूसी में इंटरनेट होना जरुरी है चापलूस नहीं ! 

– फोटो चापलूस हर फोटो पर दुसरे फोटो चापलूस से टकराते रहते हैं !

हे राम

बापू

बापू

1948 में जिस जगह महात्मा गांधी की हत्या हुई थी वहां की खून से सनी घास और मिट्टी 8 लाख रुपये में नीलाम की गई। मुझे ये सुनकर बहुत आश्चर्य हुआ है और दुख भरा क्रोध भी ! इतने वर्षों से किसी ने खून से सना हुआ घास का वो तिनका सहेज के रखा और उसे लन्दन पहुंचा दिया बेचने के लिए ?

चूँकि हत्या दिल्ली में हुई थी तो घास दिल्ली की ही होगी… खरीद से पहले बापू के खून की साक्ष्य जांच भी हुई होगी !

सोचता हूँ चौसठ साल बाद खून मिला है क्या पाता किसी के पास उनका कभी का वीर्य लगा धोती हो या उनकी बकरी का खाल …कल किसी देश में वो भी बेची जाए…हम बेचने और खरीदने वाले का क्या उखाड़ लेंगे ?

उस वक़्त न तो social मीडिया का फैशन था न टेली -विज़न न कैमरा वाला मोबाइल… चारो तरफ सिर्फ बापू थे ! उस दिन हत्या की घटना स्थल पर से खून से सना मिट्टी और घास उठा के रखने वाले ने क्या सोचा होगा ? उसने इतने सालों तक मरा हुआ खून और घास क्यों सहेज के रखा ? आठ लाख में उसे क्या खरीदना था जो उसने अपनी चौसठ साल की तपस्या को भंग किया ?

आज लाखों करोड़ों अरबों के घोटाले के बीच हमारे गरीब देश में आठ लाख बहुत सारा रुपया होता है …आठ लाख में क्या पाता किसी को अपने बेटे की पढ़ाई करवानी हो या बेटी की शादी या इसे बेच के उस दूरदर्शी ने लन्दन में बहु प्रचलित ‘बॉलीवुड’ की किसी फिल्म के हीरोइन का ब्रा और चड्डी खरीद लिया हो …इन्वेस्टमेंट का दौर है और कौन क्या बेच, खरीद और जमा कर रहा है… क्या पता ?

149767_10150816464012658_148478158_n

557611_10150816501162658_1018850155_n

 

बजट प्रार्थना / #बजटप्रार्थना

- हे प्रभु रेलगाड़ी और हवाई जहाज में फर्क बनाये रखना !

- हे प्रभु सबी गोल चीजों की कीमत एक कर दो ! एक शेप, एक प्राइस ! 

- हे प्रभु हम सब गरीबी रेखा में रह लेंगे पर रेखा को और गरीब मत करना !

- हे प्रभु बजट में लगे सभी शुन्यों से भी काम लेना नहीं तो वो बस ज़ीरो बन के रह जाते हैं ! 

- हे प्रभु ब’ ज’ ट’ को टजब या जबट होने से बचाना ! अक्षरों को अच्छे दिन का पता न चले नहीं तो ग’ ज’ ब’ हो जाएगा !  

- हे प्रभु गरीब रेखा से खुश हैं पर अमीर को सनी लिओनी न मिल जाए !

- हे प्रभु इस बार बजट को आम बजट मत कहना, आदमी आम खा चुके हैं, मौसम बदल चूका है !

- हे प्रभु थोड़ा बजट अगले साल के लिए भी बचाना ! 

महालोक – बीस

बुढ़िया का आँचल साइकिल के स्टैंड में फँस गया ! साइकिल अपने जर्जर स्टैंड पर लड़खड़ाई और सड़सठ साल की भूखी, गरीब, बुढ़िया के पाँव को निशाना बना के गिर पड़ने लगी ! लोहे से अपने पाँव को बचाने के लिए कमज़ोर बुढ़िया साइकिल से उलझ पड़ी ! साइकिल का लाल सीट सर से टोपी की तरह बुढ़िया की पाँव पर गिर पड़ा ! बुढ़िया हड़बड़ा गयी ! अपने दुःख की शिकायत करने पहुंची बुढ़िया सरकार के दालान पर उनकी ही साइकिल को अपने पैर पर गिरने से बचाने के लिए साइकिल से गुथ्थम – गुथ्थी कर रही थी और आस पास के लौंडे हंस रहे थे ! बेसहारा अकेली बुढ़िया कातर नज़रों से सब देख रही थी… ! यह सब मैंने एक कार की खिड़की से देखा ! कार के अंदर बैठे कैमरे से आप और क्या उम्मीद कर सकते हैं ! मेरी ली गयी बाकी तस्वीर तो आपने देख ही ली है न ?

काशी शरणम् गच्छामि !

१.

नीचे नीच पड़ा है, ऊँचे ऊँच
कहीं चोंच पड़ा है कहीं पूँछ !

शक्ल पड़ी है शीशे मे, अक्ल पडी है खीसे मे !

कहीं दाम पड़ा है, कहीं आम पड़ा है ,
कटा हुआ दिन सुबह से शाम पड़ा है !

टोपी पड़ी है, सर बड़ा है !

हाथ में बन्दूक है नाल पर घडी ,
छोटा मुँह और बात बड़ी !

समस्या पड़ी है, बन्द घड़ी है !
जात पड़ा है, हाथ पड़ा है, कहीं लात पड़ा है !

हवा बसात है,
मैं खुद पड़ा हूँ !

काशी शरणम् गच्छामि !

*

२.

डेमोक्रेसी का डांसर हूँ , पर फ्रीलांसर हूँ !
वोटिंग में रेगुलर हूँ , पर पार्टी में स्ट्रगलर हूँ !

रोज कर, कर भर कर, ये कर वो कर हूँ !
आप सरकार हैं, मैं आपका नौकर हूँ !

आप चाभी हैं, मैं लॉकर हूँ !
आप मास्टर हैं, मैं जोकर हूँ !

थप्पड़ हूँ, कीचड़ हूँ. कचड़ा हूँ ,
आप हाथ हैं, कमल हैं, झाड़ू हैं !

आप ब्लैकबोर्ड हैं, मैं डस्टर हूँ !
मैं क्वेश्चन हूँ , आप आंसर हैं !
मैं मंच हूँ आप डांसर हैं !

मैं प्यास हूँ आप कोला हैं !
आप नारियल हैं मैं टिकौला हूँ !

मैं जुआ हूँ आप तम्बोला हैं !

मैं दिवार हूँ आप पोस्टर हैं !

काशी शरणम् गच्छामि !

#झटपटपॉलिटिक्स

 

व्यंजनों के नाम नही होते तो हम स्वाद की राजनीति कैसे करते ?

‘झटपट पॉलिटिक्स’ की अब आदत डाल लेनी होगी !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ दिन भर की घटनाओं या दिए गए भाषण के मीडिया प्रचार के आधार पर प्रतिक्रिया दे कर किया जाता है ! कोई भी विषय इससे अछूता नहीं है और इसके विषय की सीमा अनंत है ! रोज बन और बढ़ रहा है ‘झटपट पॉलिटिक्स’ ! 

‘झटपट पॉलिटिक्स’ मीडिया का आइटम नम्बर है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में गड़े मुर्दों को भी काम मिल जाता है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ की सर्वे में आप भी प्रधानमन्त्री बन सकते हैं !

जब तक हो न जाए आज की ‘झटपट पॉलिटिक्स’ क्या होगी किसी को पता नहीं रहता !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में पार्टी, मुद्दे और फोटो फटाफट बनते हैं !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में खाली सीट भी भरी मानी जाती है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में सोशल मीडिया आग का काम करती है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ दिखावे की राजनीति का नया नाम है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ कभी भी ज्वाइन किया जा सकता है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ एक नया रोजगार है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में थकान नहीं होती !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ का फल एक दिन में ही पक जाता है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ आपकी है इसे करने से क्या शर्माना !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में हुई बदनामी सूरज के साथ ही अस्त हो जाता है !

महँगाई और गरीबी से परेशान आम आदमी ‘झटपट पॉलिटिक्स’ का रेडीमेड समर्थक है !

वोट देने के बाद हर नागरिक अपनी ऊँगली की तस्वीर के साथ ‘झटपट पॉलिटिक्स’ कर लेता है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ की टोपी कोई भी पहन सकता है !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में मीडिया के पास अगर कैमरा नहीं होता तो वो ख़ुद को भी नहीं पहचानती !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में हर ‘नर’ को ‘मादा’ मिले न मिले, हर नर को ‘मोदी’ जरुर मिलेगा ‘अबकी बार’ !

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में सेक्स सबसे जल्दी पकने वाला राजनितिक व्यंजन है

दूषित गंगा के मंथन से सिर्फ राजनितिक कीचड़ निकलेगा शुद्ध गंगाजल नहीं, गंगा साफ़ करने के लिए ‘गंगा मंथन’ झटपट पॉलिटिक्स है सफाई अभियान नहीं 

‘झटपट पॉलिटिक्स’ में महँगाई पर लगी बैठक उठते उठते सस्ती न हो जाए

राग विकट

जनहित में ‘राग विकट’ ! ‘राग विकट’ को ‘देश राग’ में गाने की जरुरत नहीं है ! इसे ‘अपनी डफली – अपना राग’ में गाया जा सकता है !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
दफ़ा दफ़ा / क्यों ख़फ़ा, ख़फ़ा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
नफ़ा नफ़ा / सब सटा सटा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
सपा सपा / सब सफा सफा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
हटा हटा / सब बँटा बँटा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
रुका रुका / सब रुका रुका ! बढ़ा, बढ़ा / बस नमो नमो !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
खुला खुला / मुंह खुला खुला ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
खिला खिला / कमल खिला / जपा, जपा / मन नमो, नमो !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
सीला सीला / सब होंठ सीला ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !

आ जपा / फिर मन भा जपा ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !
इकट विकट / सब महा टिकट ! जपा, जपा / मन नमो, नमो !